बेजुबान पक्षियों के लिए किसी मसीहा से कम नहीं है ये शख्स, इस काम के लिए खर्च कर चुके हैं 6 लाख रुपए

Breaking News

नई दिल्ली। अगर आपको दुनिया के किसी भी इलाके के लोगों के बारे में जानना हो तो बस वहां के जानवरों को एक नज़र देख लीजिए। अगर लोगों का स्वाभाव अच्छा होगा तो वहां के जानवर स्वस्थ और हृष्ट-पुष्ट होंगे। जैसा की आप जानते हैं कि शहरीकरण ( urbanization ) होने की वजह से पक्षियों को खासा नुकसान पहुंचता है। कंक्रीट के जंगलों की वजह से शहरों में पक्षियों को खासी दिक्कत होती है। हाल ही में नीदरलैंड ( Netherlands ) के हेग शहर में 5G नेटवर्क ( 5g Network ) के टेस्टिंग के दौरान अचानक लगभग 297 पक्षियों की जान चली गई थी। आज के समय में सिर्फ टेक्नोलॉजी ही पक्षियों की जान की दुश्मन नहीं है। बल्कि इंसान जाने अनजाने कई ऐसे काम कर जाता है जो उन्हें तकलीफ पहुंचाते हैं। इस गर्मी केरल में पक्षियों को लेकर एक शख्स इतना चिंतित है कि अब तक उसने उनके ऊपर करीब 6 लाख रुपए खर्च कर दिए हैं।

free mud pots for birds

हम बात कर रहे हैं केरल के एर्नाकुलम जिले के Muppathadam गांव में रहने वाले श्रीमन नारायणन की। गर्मियों में जहां जल स्तर में कमी आ जाती है वहीं पक्षी और जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए नाली के पानी का सहारा लेते हैं। इस तकलीफ से पक्षियों को निकालने के लिए श्रीमन नारायणन ने उन्हें साफ पानी मुहैया कराने की ठानी है।

story of sreeman narayanan

70 वर्षीय श्रीमन एक पुरस्कृत लेखक के साथ-साथ एक लॉटरी डीलर हैं। कुदरत को बचाने के लिए वे हर संभव कोशिश करते हैं। गर्मी का मौसम आते ही वे लोगों को मुफ्त में मिट्टी के बर्तन बांटना शुरू कर देते हैं ताकि पक्षियों और मवेशियों को गर्मियों में साफ पानी मिल सके। इस नेक काम में नारायणन ने अबतक कुल 6 लाख रुपए खर्च कर दिए हैं। इतना ही नहीं, वो अपने गांव में लगभग 10,000 पेड़ भी लगा चुके हैं। वो गांव वालों से भी कहते हैं कि हर व्यक्ति अपने घर के आगे एक फलदार पेड़ जरूर लगाए ताकि पक्षी उसके फल खा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *