अब दुश्मन पर हर पल होंगी चीन की नजरें, पानी और जमीन पर चलने वाली ड्रोन बोट का सफल परीक्षण

Breaking News

बीजिंग। चीन ने विश्व की पहली सशस्त्र ड्रोन बोट का सफल परीक्षण किया है। इस ड्रोन बोट को धरती और समुद्र दोनों जगहों से संचालित किया जा सकता है। यह बोट हवा और पानी दोनों जगहों पर चल सकती है। एक अधिकारी ने कहा कि इस बोट की संचालन सीमा 1,200 किलोमीटर है। इसे उपग्रहों के माध्यम से नियंत्रित किया जा सकता है।

सऊदी अरब में मादक पदार्थ की तस्करी के आरोप में पाकिस्तानी जोड़े को फांसी

अनूठी हैं खूबियां

चीनी सैन्य विश्लेषकों ने दावा किया गया है कि इसे भूमि और जल हमले के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। रक्षा विशेषज्ञों ने यह भी दावा किया है कि यह ड्रोन बोट, हवाई ड्रोन और अन्य ड्रोन के साथ तिकड़ी बनाने में सक्षम है। चीन शिप बिल्डिंग इंडस्ट्री कॉरपोरेशन (CSIC) के तहत वुचांग शिप बिल्डिंग इंडस्ट्री ग्रुप द्वारा निर्मित ड्रोन शिप का नाम मरीन लिज़र्ड है। 8 अप्रैल को चीन के हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान में चेकिंग के बाद इस ड्रोन बोट को फैक्ट्री से बहार निकाला गया। एक अधिकारी ने कहा कि इस ड्रोन बोट को 1,200 किलोमीटर की अधिकतम सीमा के भीतर उपग्रहों के माध्यम से भी नियंत्रित किया जा सकता है। यह ड्रोन बोट डीजल से चलने वाले हाइड्रोजेट द्वारा संचालित है। यह खामोशी से अधिकतम 50 समुद्री मील की गति से पाने में दौड़ सकता है। ड्रोन बोट सतह पर आने के साथ ही अपने पेट के नीचे छिपी हुई चार आर्म्स के माध्यम से 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से यात्रा कर सक सकती है। चीन अधिकारियों ने कहा है कि अगर बड़े ट्रैक यूनिट लगाए जाएं तो जमीन पर इसकी अधिकतम गति बढ़ाई जा सकती है। मरीन बोट के पेलोड में एक इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सिस्टम और एक रडार सिस्टम शामिल है। एक चीन अधिकारी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह दो मशीन गन और एंटी शिप तथा एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइलों से लैस है।

सूडान में संकट: क्या किसी समझौते तक पहुंचेंगे सेना और प्रदर्शनकारी?

हथियारों की होड़ में आगे निकलता चीन

बीते कई सालों से चीन हथियारों की होड़ में आगे निकलता जा रहा है। लगभग 178 बिलियन अमरीकी डॉलर के रक्षा बजट के साथ चीनी सेना हाल के वर्षों में नए हथियारों की एक श्रृंखला विकसित करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। चीन इस समय नई मिसाइलों, फाइटर जेटों और कई तरह के उन्नत टैंकों का विकास कर रहा है। यह ऑटोमेटिक रूप से बाधाओं और संकटों से बच सकता है। बताया जा रहा है कि यह उभयचर ड्रोन नाव द्वीप हमले के संचालन के लिए उपयुक्त है। इस तरह के ड्रोन जहाजों का झुंड दुश्मनों के तोपखाने और उनके जहाजों पर हमलों का नेतृत्व कर सकता है। तटीय क्षेत्रों की रक्षा के लिए यह ड्रोन बोट एक बढ़िया विकल्प है। यही नहीं, इस्तेमाल में न होने के समय यह ड्रोन बोट आठ महीने तक किसी निर्जन द्वीप पर निष्क्रिय भी रह सकती है।


विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *